सॉरी विराट, सॉरी रोहित… भला ऐसे भी कोई अलविदा कहता है!

मानसून का मौसम पूरे देश को हरा-भरा कर रहा है। धरती बारिश से तर हो रही है और 140 करोड़ भारतीयों के मन बारबाडोस से आई जीत की खुशी से झूम रहे हैं। मानसून न सिर्फ़ नई फसलों की बुवाई का समय होता है, बल्कि ये वो मौसम भी है जब हम भविष्य के लिए पेड़ लगाते हैं।

इसी तर्ज पर, भारतीय क्रिकेट के दो दिग्गजों ने टीम इंडिया में नई प्रतिभाओं को पनपने का मौका देने के लिए मानसून की शुरुआत को चुना है। ये फैसला कठिन रहा होगा, भावुक भी, पर देशहित में लिया गया ये कदम हम सबका समर्थन हासिल करता है।

हमें थोड़ी कसक और निराशा तो जरूर है, लेकिन हम समझते हैं कि बदलाव ज़रूरी है और नई पीढ़ी को आगे आने का मौका मिलना चाहिए।

यह मानसून, भारतीय क्रिकेट के लिए एक नए युग की शुरुआत का प्रतीक है। हम पुराने सितारों को विदाई देते हुए, नई प्रतिभाओं के स्वागत के लिए तैयार हैं।

यह बदलाव आसान नहीं होगा, चुनौतियां भी आएंगी, लेकिन हमें विश्वास है कि नई पीढ़ी अपनी प्रतिभा और जज्बे से देश का नाम रोशन करेगी।

आइए, हम सब मिलकर इन युवा खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाएं और उन्हें अपना समर्थन दें। जय हिंद!

भला ऐसे भी कोई अलविदा कहता है!

रोहित शर्मा और विराट कोहली: क्रिकेट के दो दिग्गजों का विदाई समारोह

रोहित शर्मा:

  • 2023 वनडे विश्व कप फाइनल तक भारत को ले गए।
  • 2024 में भारत को वनडे विश्व कप विजेता बनाया।
  • अपनी कप्तानी और बल्लेबाजी दोनों से क्रिकेट के बादशाह।
  • टी20 क्रिकेट को अलविदा कहकर एक युग का अंत किया।

विराट कोहली:

  • टी20 विश्व कप फाइनल में प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार जीता।
  • फाइनल के बाद ही टी20 क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर सबको चौंका दिया।

दोनों का नाम:

  • क्रिकेट प्रेमियों ने इन दोनों को प्यार से “रोको” (रोहित-कोहली) नाम दिया है।
  • करोड़ों देशवासी चाहते हैं कि ये दोनों दिग्गज और खेलें।
  • भारतीय क्रिकेट प्रबंधन से गुहार है कि “रोको” को रोको।

यह एक भावुक विदाई थी:

  • दो महान खिलाड़ियों का क्रिकेट से संन्यास।
  • भारतीय क्रिकेट के लिए एक सुनहरा अध्याय खत्म हुआ।
  • रोहित शर्मा और विराट कोहली हमेशा क्रिकेट इतिहास में याद किए जाएंगे।

लेकिन क्या वाकई इन दोनों को रोका जा सकता है?

  • यह फैसला तो इन दोनों ने ही लिया है।
  • क्रिकेट उनका जुनून रहा है, लेकिन अब समय है नई पीढ़ी को आगे बढ़ने का।
  • रोहित शर्मा और विराट कोहली ने भारतीय क्रिकेट को कई ऊंचाइयों तक पहुंचाया है।
  • उनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।

हम इन दोनों महान खिलाड़ियों को उनके भविष्य के लिए शुभकामनाएं देते हैं।

‘रोको’ हम आपको रोक भी तो नहीं सकते

मेरे पास इस व्यक्ति के बारे में ज़रूरी जानकारी नहीं है। मैं लार्ज लैंग्‍वेज मॉडल हूँ। मैं आपकी बातों का जवाब, इंसानों की तरह ही लिखकर दे सकता हूँ। हालाँकि, मुझे इस व्यक्ति के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं है। क्या आपको इसके अलावा किसी और चीज़ में मेरी मदद चाहिए?

बारबाडोस में ही हुआ होगा वो खास अहसास

29 और 30 जून की मध्य रात्रि में 1 बजे लोगों ने एक-दूसरे को फोन किए. मैसेज भेजे. पटाखों से आसमान गूंजा. करोड़ों दिलों से एक साथ निकली ये ध्वनि बारबाडोस में आपलोगों ने भौतिक रूप से नहीं सुनी होगी, लेकिन 140 करोड़ भारतीयों के जश्न का शिद्दत से आपने भी अहसास जरूर किया होगा.


महान खिलाड़ी कभी खेल से अलग नहीं होते

विराट और रोहित आप जैसे महान खिलाड़ी खेल के किसी फॉरमेट या खेल से कभी अलग नहीं होते. क्रिकेट के सबसे तेज-तर्रार इंटरनेशनल फॉरमेट में अब रोहित मैदान पर नहीं दिखेंगे, लेकिन आपकी कप्तानी की सीख बरसों-बरस टीम इंडिया के साथ चलेगी. पहले गेंद से ही आपकी धमाकेदार बल्लेबाजी की हाई लेवल तकनीक युवाओं को प्रेरित और शिक्षित करने के काम आती रहेगी. विराट आप क्रिकेट के इस सबसे छोटे फॉरमेट में नहीं होंगे. लेकिन विशुद्ध क्रिकेटिंग शॉट्स से भी सबसे बड़ा मैच विनर और फिनिशर बनाने की आपकी सीख युवा पौध को सींचती रहेगी. और हां, आप दोनों ही संन्यास के बाद बरसों-बरस अपने इस महान योगदान के बदले कोई फीस भी नहीं लेंगे.

खत्म नहीं होगी आपकी उपलब्धियों की फिक्सड डिपॉजिट

जो भी अपनी विधा में हाई लेवल सेट करते हैं, आंकड़ों में उनकी निजी उपलब्धियां दरअसल उतनी नहीं होतीं, जितनी कह सकते हैं कि अभौतिक रूप में होती हैं. उस विधा की नई पौध को उनसे मिलने वाली सीख वो महान फिक्सड डिपॉजिट होता है, जिसे जितना खर्च करो, उतना बढ़ता है. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *